बेरेट्स इसोफेगस: लक्षण और कारण

बेरेट्स इसोफेगस – लक्षण – बार-बार होने वाली सीने की जलन। भोजन निगलने में कठिनाई और दर्द। छाती में दर्द।. बेरेट्स इसोफेगस – कारण – लम्बे समय से बना हुआ जीईआरडी खतरे का प्राथमिक सूचक है।.

बेरेट्स इसोफेगस: प्रमुख जानकारी और निदान

बेरेट्स इसोफेगस ऐसी स्थिति है जिसमें इसोफेगस (आहारनलिका), माँसपेशियों से बनी नली जो आहार और तरल पदार्थों को मुँह से पेट तक ले जाती है, के ऊतकों की परतें आंतों की परतों से मिलते-जुलते ऊतकों द्वारा विस्थापित कर दी जाती हैं। इस प्रक्रिया को इन्टेस्टीनल मेटाप्लेसिया कहते हैं।.

टिटनेस: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

टिटनेस आहार – लेने योग्य आहार: तरल पदार्ध, दूध, अंडा,

टिटनेस: प्रमुख जानकारी और निदान

टिटनेस गंभीर बैक्टीरिया जन्य रोग है जो हड्डियों की मांसपेशियों के तंतुओं के लम्बे समय तक सिकुड़े रहने से उत्पन्न होता है।.

टिटनेस: लक्षण और कारण

टिटनेस लक्षण – सिरदर्द, कंपकंपी, जबड़े का ऐंठना, माँसपेशियों में संकुचन, निगलने में कठिनाई, झटके, बुखार और पसीना. टिटनेस कारण – क्लॉस्ट्रीडियम टेटनी नामक बैक्टीरिया द्वारा उत्पन्न।.

टांसिलाइटिस: रोकथाम और जटिलताएं

टांसिलाइटिस रोकथाम – धूम्रपान ना करें। शीतल पेय और आइसक्रीम ना लें। जो रोगी हैं उनके साथ निकट संपर्क में ना आएँ। हाथों को उचित प्रकार से धोएँ।.

टांसिलाइटिस: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

टांसिलाइटिस आहार – लेने योग्य आहार: नर्म आहार जैसे प्लेन पास्ता, चावल, दही, और पुडिंग जो कि निगलने में आसन और आरामदायक होते हैं। स्वास्थ्यवर्धक पेय पीयें जैसे कि कुनकुना पानी, नीबू और शहद का रस। पानी अधिक मात्रा में लें, इससे आपके गले की सूजन को नर्म करके आराम पहुँचाने में सहायता होती है।

टांसिलाइटिस: लक्षण और कारण

टांसिलाइटिस लक्षण – तेज बुखार और कंपकंपी। सिरदर्द। बहती नाक। कमजोर भूख। कमजोरी। छींकना और खाँसना।. टांसिलाइटिस कारण – वायरस और बैक्टीरिया।.

टांसिलाइटिस: प्रमुख जानकारी और निदान

टॉन्सिल्स का संक्रमण टांसिलाइटिस कहलाता है।.