प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (एड़ी का दर्द): रोकथाम और जटिलताएं

प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (एड़ी का दर्द) – रोकथाम – समस्या को उभारने वाली गतिविधि ना करें। चिकित्सीय लाभ ना देने वाले जूतों का प्रयोग ना करें। नंगे पैरों ना रहें, यदि संभव हो तो स्नान के समय भी पैर खुले ना रखें।.

प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (एड़ी का दर्द): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (एड़ी का दर्द) – आहार – लेने योग्य आहार: वे आहार लें जो आपके शरीर से सूजन और फूलापन कम करने में सहायक हों। मेवे, साबुत अनाज जैसे भूरा चावल, बाजरा, ज्वार, साबुत गेहूँ, और दालें, चने, और विभिन्न प्रकार की फलियाँ। विटामिन सी युक्त आहार जैसे ब्रोकोली, पत्तागोभी, ब्रसल्स स्प्राउट्स, टमाटर, हरी मिर्च, खरबूज और तरबूज, केंटालूप, कीवी, स्ट्रॉबेरी, शिमला मिर्च, छिलका युक्त आलू, और अल्फाल्फा स्प्राउट्स में सूजन-रोधी गुण होते हैं।

प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (एड़ी का दर्द): लक्षण और कारण

प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (एड़ी का दर्द) – लक्षण – एड़ी के निचले हिस्से में दर्द और जकड़न। पैर के तल में जलन या दर्द जो एड़ी से बाहर की तरफ निकलता महसूस होता है।. प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (एड़ी का दर्द) – कारण – प्लान्टर फ़ेशियाइटिस के उत्पन्न होने का कारण है प्लान्टर फेशिया पर लगातार अत्यधिक खिंचाव बना रहना।.

प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (एड़ी का दर्द): प्रमुख जानकारी और निदान

इसमें ऊतकों के बने मोटे हिस्से जिसे प्लान्टर फ़ेशिया कहते हैं, जो आपके पैर के तल में होता है और आपकी एड़ी की हड्डी को पैरों की उँगलियों से जोड़ता है तथा एक प्रकार से वजन सहन करने में सहायक होता है, का दर्द और सूजन सम्मिलित किये जाते हैं।.

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस: रोकथाम और जटिलताएं

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस – रोकथाम – खड़े रहते समय, बैठते समय, कंप्यूटर पर काम करते समय, वाहन चलाते समय, और सोते समय सही शारीरिक भंगिमा रखें। गर्दन की चोट के खतरे को कम करें।.

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस: लक्षण और कारण

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस – लक्षण – गर्दन में दर्द। गर्दन में जकड़न। झुनझुनी और असामान्य एहसास।. सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस – कारण – अधिक वजनी होना और व्यायाम ना करना। कार्य गतिविधि। गर्दन की भूतकाल में हुई कोई शल्यक्रिया।.

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस – आहार – लेने योग्य आहार: सुबह लहसुन की 2-3 कलियाँ खाने से और लहसुन का तेल लगाने से गर्दन के दर्द में शीघ्र छुटकारा मिल सकता है।
, सेब, लहसुन, अदरक और हल्दी ये सभी सूजन कम करते हैं।
, ओमेगा 3 और विटामिन ई से भरे-पूरे आहार जैसे कि तैलीय बीज, मेवे और मछली भी जोड़ों की सूजन से राहत देते हैं।
,

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस: प्रमुख जानकारी और निदान

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस एक आयु सम्बन्धी अपक्षयी विकार है जिसमें गर्दन (सर्वाइकल वर्टिब्रा-गर्दन के निकट मेरुदंड का हिस्सा) के तंतुओं और हड्डियों का असामान्य घिसाव होता है।.

हर्पीस ज़ोस्टर: प्रमुख जानकारी और निदान

आमतौर पर इसे शिन्गल्स के नाम से जाना जाता है। आमतौर पर शिन्गल्स शरीर या चेहरे के किसी एक तरफ पतली पट्टी, एक बंध या छोटे क्षेत्र के रूप में दिखाई पड़ता है। यह आँख के पास भी हो सकता है जिसे हर्पीस ज़ोस्टर ओप्थेल्मिकस कहते हैं।.

हर्पीस ज़ोस्टर: लक्षण और कारण

हर्पीस ज़ोस्टर – लक्षण – शरीर के एक तरफ जलन, खुजली, दर्द्युक्त घाव। माथे के एक तरफ और आँखे की ऊपरी पलक पर फफोले होना। प्रभावित क्षेत्र के आसपास जलन, फड़कन या खुजली होना। आँख के पास की त्वचा का लाल होना या दाग होना।. हर्पीस ज़ोस्टर – कारण – यह चिकनपॉक्स की उत्पत्ति करने वाले वेरिसेला ज़ोस्टर वायरस द्वारा होता है।.