सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

परहेज और आहार

लेने योग्य आहार
  • सुबह लहसुन की 2-3 कलियाँ खाने से और लहसुन का तेल लगाने से गर्दन के दर्द में शीघ्र छुटकारा मिल सकता है।
  • सेब, लहसुन, अदरक और हल्दी ये सभी सूजन कम करते हैं।
  • ओमेगा 3 और विटामिन ई से भरे-पूरे आहार जैसे कि तैलीय बीज, मेवे और मछली भी जोड़ों की सूजन से राहत देते हैं।
  • दिन में तीन बार चट्टानी नमक डला नीबू का रस पियें।
  • नियमित आहार में चावल के स्थान पर गेहूँ लें और कड़वी सब्जियाँ अधिक शामिल करें जैसे करेला और सहजन।
  • ताज़ी हरी और पत्तेदार सब्जियाँ लेनी चाहिए। भोजन में सलाद अवश्य होना चाहिए। पालक, गाजर, और चुकंदर का रस भी लेना चाहिए।
इनसे परहेज करे
  • तले आहार, मसालेदार, तैलीय, माँस की अधिकता, और रिफाइंड आहार जैसे कि मिठाइयाँ, गोलियाँ, ब्रेड और मैदे की बनी अन्य वस्तुएँ जोड़ के रोगों के लिए दोषी हैं।
  • एसिड उत्पन्न करने वाले आहारों के साथ रेड मीट, खट्टी सब्जियाँ और सफ़ेद आलू भी. आपके शरीर में इकठ्ठा एसिड जोड़ों के फूलने को बढ़ावा दे सकता है और सर्वाइकल स्पोंडीलोसिस को अधिक बढ़ा सकता है।

योग और व्यायाम

कम जोर डालने वाली गतिविधियाँ गर्दन के साथ रीढ़ हेतु सर्वोत्तम व्यायाम होते हैं जैसे तैरना, पैदल चलना, और योग।
गति वाले व्यायाम
  1. अपने सिर को दाहिनी ओर धीरे-धीरे घुमाएँ जब तक कि ये दुखने ना लगे, रुकें, और वापस केंद्र पर आ जाएँ। इसको बाएँ हिस्से के साथ दोहराएँ।
  2. अपनी ठोढ़ी को छाती की तरफ झुकाएं, रुकें, और आराम करें। सिर को वापस ऊपर लाएँ।
  3. अपने सिर को सीधा रखकर बाएँ कान की तरफ मोड़ें, रुकें, और वापस लौट कर केंद्र पर आ जाएँ. इसको दाहिनी तरफ से भी दोहराएँ।
  4. अपने सिर को पीछे की तरफ झुकाएं ताकि आप छत देख सकें, रुकें और अपने सिर को वापस नीचे ले आएँ।
सममितीय व्यायाम
  1. इन्हें करते समय साँस रोकें नहीं. हर व्यायाम के लिए 5-6 बार तक दबाव दें और फिर विश्राम दें।
  2. अपने माथे को हथेलियों पर दबाएँ, किसी भी तरह की गति का विरोध करें।
  3. आपके हाथ को सिर की एक तरफ रखकर दबाएँ। कान को कंधे पर लाने का प्रयास करें, लेकिन गति का विरोध करें।
  4. दोनों हाथों को सिर के पीछे ले जाकर दबाएँ। अपने सिर को ऊपर खींचने का प्रयास करें, लेकिन किसी भी प्रकार की गति का विरोध करें।
  5. अपने हाथ को कनपटी पर दबाएँ. अपनी ठोढ़ी को कंधे की तरफ घुमाने का प्रयास करें, लेकिन किसी भी तरह की गति का विरोध करें. आप इन सभी व्यायामों को दिन में दो समय 5-5 बार करें।
योग

घरेलू उपाय (उपचार)

  • सोने की मुद्रा: सख्त गद्दे का प्रयोग करें और अपना सिर जमीन के तल पर रखें. पीठ को 15 डिग्री तक मोड़ने वाले तकिये का प्रयोग करें। पेट के बल ना सोएँ। ये गर्दन को फैलाता है। पीठ के बल या करवट लेकर सोएँ।
  • दर्द कम करने के लिए गर्दन पर बर्फ या गर्म, कोई एक, सिंकाई करें। बारी-बारी से गर्म और ठन्डे का प्रयोग, किसी एक से ही करते रहने की अपेक्षा, अधिक असरदार होता है।
  • दवाई की दुकान पर मिलने वाले दर्द निवारक जैसे आइबूप्रोफेन, नाप्रोक्सेन, या एसिटामिनोफेन का प्रयोग सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के दर्द को नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है।
  • गर्दन में पहनने हेतु नर्म कॉलर गर्दन की गति सीमित करती है और माँसपेशियों को आराम देती है लेकिन इसे थोड़े समय के लिए ही पहनना चाहिए क्योंकि लम्बे समय तक पहनने से गर्दन की माँसपेशियों की शक्ति घट जाती है।

Cervical spondylosis TO DO





स्पोंडिलोसिस, स्पोंडिलाईटिस, गर्दन में जकड़न, जकड़ी हुई गर्दन, अपक्षयी ओस्टियोआर्थराइटिस, गर्दन का दर्द, गर्दन में दर्द, झुनझुनी, गर्दन स्थित रीढ़, मेरुदंड, आर्थराइटिस, सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस – आयुर्वेदिक दवा और इलाज, Cervical Spondylosis rog, Cervical Spondylosis ka gharelu upchar, upay, Cervical Spondylosis me parhej, Cervical Spondylosis ka ilaj, Cervical Spondylosis ki dawa, Cervical Spondylosis treatment in hindi,

Comments are closed.