साइटिका: रोकथाम और जटिलताएं

साइटिका रोकथाम – व्यायाम नियमित करें। बैठते समय, सोते समय और खड़े रहते समय शरीर को सही स्थिति में रखें। लम्बे समय तक ना बैठें। सिगरेट और शराब ना लें।.

साइटिका: प्रमुख जानकारी और निदान

साइटिका किसी भी तरह का दर्द जो साईटिक नस के दबाव या उत्तेजना से उत्पन्न हुआ हो उसे कहते हैं, दर्द खास रूप में कमर में अनुभव होता है और वहां से लेकर जांघ के पिछले हिस्से में होता हुआ घुटने के नीचे उतर जाता है।.

साइटिका: लक्षण और कारण

साइटिका लक्षण – पीठ दर्द, आपके पैरों और पंजे में सुन्नपन और झुनझुनी। मांसपेशी में कमजोरी। संवेदी प्रतिक्रिया की हानि।. साइटिका कारण – खिसकी या निकली हुई डिस्क, स्पाइनल स्टेनोसिस, स्पोंडिलोलिस्थेसिस, पिरिफोर्मिस सिंड्रोम, दर्द के उत्प्रेरक।.

साइटिका: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

साइटिका आहार – लेने योग्य आहार मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों में डेयरी उत्पाद, मछली, मांस, समुद्री भोजन, सेब, खुबानी, भूरे रंग के चावल, बीन्स आदि शामिल हैं। विटामिन बी 12 से भरपूर भोजन जैसे जिगर, कस्तूरी, भेड़, और पनीर आपके सियाटिक तंत्रिका दर्द के उपचार में फ़ायदेमंद हो सकते हैं। ओमेगा -3 फैटी एसिड से समृद्ध खाद्य पदार्थ शामिल करें, जिसमें सामन, सार्डिन, हेरिंग, और मैकेरल आदि शामिल हैं। विटामिन ए, जैसे दूध, पनीर और दही, गाजर, गहरे हरे पत्तेदार सब्जियां, नारंजी रंग का फल जैसे आम और खुबानी, दृढ़ नकली मक्खन, अंडे, मैकेरल और अन्य तेलीय मछली विटामिन सी फल में विशेष रूप से नींबू, सामान्य और मीठे आलू, गोभी, पालक, ब्रोकोली, टमाटर, और हरे और पीले रंग सब्जियों में पाया जाता है। पर्याप्त पोटाशियम कटिस्नायुशूल के प्रबंधन में महत्त्वपूर्ण है क्यू की ये मांसपेशियों को मज़बूती प्रदान करता है और न्यूरोट्रांसमिशन में मदद करता है। पोटाशियम प्रचुर आहार में सफेद सेम, गहरे हरे साग, आलू, खुबानी, एवोकाडो, मशरूम, मछली (सामन) और केले शामिल हैं। इनसे परहेज करे सभी परिष्कृत (रिफाइंड) आटा और शर्करा से बनी चीज़ें जो तंत्रिका तंत्र को क्षति पहुंचाती हैं। गाय के दूध और उससे बानी चीज़ें, तला हुआ सासेज और प्रसंस्कृत या जंक फूड खाने से परहेज़ करें।

लूम्बेगो (कमर दर्द): रोकथाम और जटिलताएं

लूम्बेगो (कमर दर्द) – रोकथाम – कमर को स्वस्थ व मजबूत रखने के लिए व्यायाम करें। अपनी कमर को बचाने के लिए चीजों को सही और सुरक्षित रूप से उठाना सीखें। बैठते समय अपनी कमर की सुरक्षा रखें। सोने की अलग-अलग मुद्राएँ अपनाएँ।.

लूम्बेगो (कमर दर्द): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

लूम्बेगो (कमर दर्द) – आहार – लेने योग्य आहार आप अपने शरीर को स्वास्थ्यवर्धक आहार लेकर उचित आकार में रख सकते हैं जैसे फल, सब्जियाँ और साबुत अनाज आदि। ऐसे आहार चुनें जिनमें संतृप्त वसा और शक्कर का स्तर कम हो। पानी अधिक मात्रा में पियें।: कमर के स्वास्थ्य को बनाए रखने में विटामिन डी अत्यंत उपयोगी सिद्ध हुआ है। विटामिन डी, “सनशाइन” विटामिन की कमी, कमर के दर्द में योगदान दे सकती है। सूर्य के प्रकाश द्वारा और मछली, दूध, अंडे, दलिया द्वारा विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा लें।
, विटामिन सी, जिसे एस्कोर्बिक एसिड भी कहते हैं, ऐसा विटामिन है जो कमर दर्द में सहायता करता है। हरी पत्तेदार सब्जियाँ, ब्रोकोली, फूलगोभी, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, पपीता, स्ट्रॉबेरी आदि सभी विटामिन सी से भरपूर होते हैं।
, विटामिन बी1, बी6, और बी12 आपके कमर दर्द को काफी कम कर सकते हैं। पालक, गाजर, फलियाँ और साबुत अनाजों में ये विटामिन अधिक मात्रा में पाए जाते हैं।
,

लूम्बेगो (कमर दर्द): लक्षण और कारण

लूम्बेगो (कमर दर्द) – लक्षण – दर्द, माँसपेशियों में तनाव और कमर में जकड़न। दर्द का एक अथवा दोनों पैरों में उतरना।. लूम्बेगो (कमर दर्द) – कारण – लूम्बेगो, कमर के जोड़ों की भीतरी टूट-फूट या अत्यधिक कार्य करने या जोड़ों का अत्यधिक उपयोग करने से, जोड़ों की सतह पर आई विकृति के परिणामस्वरूप होता हुआ पाया जाता है।.

लूम्बेगो (कमर दर्द): प्रमुख जानकारी और निदान

लूम्बेगो कमर में या लम्बर क्षेत्र में होने वाले मध्यम से तीव्र दर्द या पीड़ा को कहते हैं।.

पिरिफोर्मिस सिंड्रोम (कूल्हे का दर्द): लक्षण और कारण

पिरिफोर्मिस सिंड्रोम (कूल्हे का दर्द) – लक्षण – कूल्हे का दर्द या झुनझुनी जो जांघ तक जाती है। दर्द जो लम्बे समय तक बैठने पर बदतर हो जाता है।. पिरिफोर्मिस सिंड्रोम (कूल्हे का दर्द) – कारण – पिरिफोर्मिस सिंड्रोम विशिष्ट रूप से पिरिफोर्मिस पेशी के कसने या तंग होने से उत्पन्न होता है।.

पिरिफोर्मिस सिंड्रोम (कूल्हे का दर्द): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

पिरिफोर्मिस सिंड्रोम (कूल्हे का दर्द) – आहार – लेने योग्य आहार: शरीर की रोग से उबरने वाली प्रक्रिया में सहायता के लिए मछली बढ़िया आहार है।
, ताजा अन्नानास, सभी प्रकार की बेरियाँ सूजन कम करके ठीक होने में सहायता करती हैं और प्रतिरक्षक तंत्र को भी उन्नत करती हैं।
, मसाले जैसे हल्दी, लहसुन, अदरक स्वभाव से सूजनरोधी होते हैं।
,