एक्जिमा – खुजली: रोकथाम और जटिलताएं

एक्जिमा – खुजली – रोकथाम – स्वच्छ रहें। त्वचा को नर्म रखें। कारक तत्वों, तनाव, तंग कपड़े, खुजली से बचें।.

एक्जिमा – खुजली: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

एक्जिमा – खुजली – आहार – लेने योग्य आहार: कच्चे फल जैसे कि सेब, नाशपाती, केले आदि।
, ताज़ी सब्जियाँ।
, तेल या घी बिना गर्म किया हुआ।
,

एक्जिमा – खुजली: लक्षण और कारण

एक्जिमा – खुजली – लक्षण – अक्सर त्वचा शुष्क महसूस होती है। त्वचा के कुछ क्षेत्र तड़के दिखाई देते हैं। खुजली और दर्द। लाल और सूजे हुए। घाव. एक्जिमा – खुजली – कारण – अनुवांशिक और वातावरण के कारक। भारी पानी, तनाव, शुष्क त्वचा, चयापचयी क्रिया उचित ना होना।.

एक्जिमा – खुजली: प्रमुख जानकारी और निदान

एक्जिमा (खुजली) ऐसी स्थिति है जिसमें त्वचा सूज जाती या उत्तेजित हो जाती है। यह त्वचा के रोग का एक प्रकार है।.

एक्यूट कांटेक्ट डर्मेटाइटिस: रोकथाम और जटिलताएं

एक्यूट कांटेक्ट डर्मेटाइटिस – रोकथाम – त्वचा पर घाव उत्पन्न करने वाले पदार्थों से संपर्क ना रखें। एलर्जी उत्पन्न करने वाले पदार्थों के संपर्क में आने वाले हर क्षेत्र को स्वच्छ करें।.

एक्यूट कांटेक्ट डर्मेटाइटिस: प्रमुख जानकारी और निदान

कांटेक्ट डर्मेटाइटिस (त्वचा पर संपर्क द्वारा उत्पन्न होने वाली सूजन) ऐसी स्थिति है जिसमें किसी उत्तेजक या विशिष्ट पदार्थ जिसे एलर्जन कहते हैं, के संपर्क में आने के बाद त्वचा लाल हो जाती है या सूज जाती है।.

एक्यूट कांटेक्ट डर्मेटाइटिस: लक्षण और कारण

एक्यूट कांटेक्ट डर्मेटाइटिस – लक्षण – लाल निशान या उभरे हुए निशान। खुजली, जो कि गंभीर हो सकती है। सूखे, तड़के हुए, लाल निशान, जो कि जले हुए घाव की तरह दिखाई पड़ते हैं। गंभीर प्रतिक्रिया में फफोले होना, उनमें से तरल पदार्थ निकलना और पपड़ी जमना आदि होता है।. एक्यूट कांटेक्ट डर्मेटाइटिस – कारण – सौन्दर्य प्रसाधन, कपड़ों, फर और चमड़े के उत्पादों में उपयोग होने वाले रंग (डाई)। उत्पादों में मिलाई जाने वाली कृत्रिम सुगंध और परफ्यूम। बालों में कृत्रिम रंग लगाना।.

एक्यूट कांटेक्ट डर्मेटाइटिस: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

कांटेक्ट डर्मेटाइटिस (त्वचा पर संपर्क द्वारा उत्पन्न होने वाली सूजन) ऐसी स्थिति है जिसमें किसी उत्तेजक या विशिष्ट पदार्थ जिसे एलर्जन कहते हैं, के संपर्क में आने के बाद त्वचा लाल हो जाती है या सूज जाती है। एलर्जी द्वारा उत्पन्न डर्मेटाइटिस आमतौर पर चपेट में आने के 12 से 72 घंटों के मध्य दिखाई पड़ता है।
कांटेक्ट डर्मेटाइटिस के दो प्रकार होते हैं।
उत्तेजक कांटेक्ट डर्मेटाइटिस। यह तब होता है जब लोग किसी ऐसी वस्तु (उत्प्रेरक) को छूते हैं, जिसके प्रति वे संवेदनशील होते हैं। यह अधिक सामान्य प्रकार है।
एलर्जिक कांटेक्ट डर्मेटाइटिस। यह तब होता है जब लोग किसी ऐसी वस्तु को छूते हैं, जिससे उन्हें एलर्जी होती है।

सोरायसिस: रोकथाम और जटिलताएं

सोरायसिस रोकथाम – त्वचा पर कटने, छिलने और संक्रमण ना होने दें। तनाव ना करें। उत्प्रेरकों से दूरी बनाएँ। स्वच्छ रहें।.

सोरायसिस: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

सोरायसिस आहार – लेने योग्य आहार: लीन और रेड मीट, अलसी, हरी सब्जियाँ,