एन्कायलोग्लोसिया (चिपकी जीभ): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

एन्कायलोग्लोसिया (चिपकी जीभ) – व्यायाम – बाजू में घुमाना- अपनी उंगली बच्चे की जीभ के नीचे, जितनी दूर तक आप डाल सकते हैं, डालें। एक बाजू से दूसरी बाजू घुमाएँ।
, जीभ उठाना- अपनी उंगली शिशु की जीभ के नीचे डालें, और दबाएँ। जितना दूरी तक दबा सकें, दबाएँ। फिर उठा लें, जहाँ तक कि आप उठा सकें कुछ सेकंड के लिए थामकर रखें।
, जीभ को ऊपर नाक की तरफ खींचने की, और नीचे ठोड़ी की तरफ खींचने की कोशिश करें।
,

डिस्फेजिया: लक्षण और कारण

डिस्फेजिया लक्षण – निगलते समय दर्द (ओडिनोफेजिया)। निगलने में कठिनाई। चबाने में असमर्थ होना। निगलते समय खाँसी आना या मुंह का बंद होना।. डिस्फेजिया कारण – टॉन्सिल्स, कंठ और मुंह की सूजन। ये उन विकारों का लक्षण है।.

डिस्फेजिया: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

डिस्फेजिया आहार – डिस्फेजिया के दौरान दिये जाने वाले आहारों में नर्म उबली सब्जियाँ, नर्म और कैन में बंद फल, ब्रेड, गर्म दलिया, दूध में डुबो कर खाए जाने के लिए तैयार दलिया, कैन में बंद फल, नर्म उबली सब्जियाँ, रस, आमलेट, ग्राउंड मीट, उबली फलियाँ, उबले मटर, कॉटेज चीस, दही, कस्टर्ड, पुडिंग, क्रीम सूप, बिना मेवों की कूकीज और नूडल्स आते हैं।
, कड़ा माँस, मेवे, गिरियाँ, चिपचिपी ब्रेड, कड़ा चबाया जाने वाला माँस, सख्त सब्जियाँ।
,

ग्लोसाइटिस (जीभ की सूजन): रोकथाम और जटिलताएं

ग्लोसाइटिस (जीभ की सूजन) – रोकथाम – उचित आहार और पोषण। उत्प्रेरकों जैसे सिगरेट पीना और अम्लीय या मसालेदार आहार आदि न लें। मुख की स्वच्छता बढ़िया बनाए रखें।.

ग्लोसाइटिस (जीभ की सूजन): प्रमुख जानकारी और निदान

ग्लोसाइटिस जीभ की सूजन या संक्रमण है जो इसे आकार में सूजा हुआ बना देता है, लाल रंग के विभिन्न प्रकारों में परिवर्तित कर देता है, और जीभ की सतह को समान दिखाई पड़ने वाला बनाता है क्योंकि जीभ की सतह पर उपस्थित उंगलीनुमा बाहर निकली हुई रचनाएँ, जिन्हें पेपिला कहा जाता है, गुम या नष्ट हो चुकी होती हैं।.

ग्लोसाइटिस (जीभ की सूजन): लक्षण और कारण

ग्लोसाइटिस (जीभ की सूजन) – लक्षण – जीभ की सूजन। जीभ का चिकना दिखाई देना। जीभ का रंग बदल जाता है (आमतौर पर “माँस” जैसा गहरा लाल)।. ग्लोसाइटिस (जीभ की सूजन) – कारण – बैक्टीरिया या वायरस द्वारा उत्पन्न संक्रमण (जिसमें मुंह में स्थित हर्पीस सिम्पलेक्स भी शामिल है)। जलने, दाँतों या दन्त उपकरणों की सख्त सतहों से, या अन्य आघातों से हुई यांत्रिक उत्तेजना या चोट। उत्प्रेरकों जैसे तम्बाकू, शराब, गर्म भोजन या मसालों की चपेट होना।.

ग्लोसाइटिस (जीभ की सूजन): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

ग्लोसाइटिस (जीभ की सूजन) – आहार – लेने योग्य आहार इन आहारों से परहेज करें: पानी अधिक मात्रा में पियें। फलों जैसे सेब, क्रैनबेरी या अंगूर का रस। कम वसा युक्त दुग्ध उत्पाद,

टिनिटस (कान बजना): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

टिनिटस (कान बजना) – आहार – लेने योग्य आहार: रक्तसंचार को बढ़ाने हेतु ढेर सारा ताजा अन्नानास खाएँ। लहसुन के गंधरहित कैप्सूल लें या उन्हें भोजन में पका लें। लहसुन सूजन घटाने और संचार बढ़ाने इन दोनों कार्यों में सहायक होता है। अपने कच्चे फल, हरी सब्जियों और पकी दालों (फलियों) के सेवन को बढ़ाएं। यह आहार विटामिनों, एमिनो एसिड्स और वनस्पतिजन्य यौगिकों से समृद्ध होता है जो भीतरी कान की सूजन को कम करने में सहायक होते हैं।