ब्रेड में कैंसर उत्पन्न करने वाले रसायन, सीएसई की रिपोर्ट

ब्रेड हमारे भोजन का सामान्य हिस्सा है। सैंडविच से लेकर स्ट्रीट फ़ूड तक, ब्राउन ब्रेड से लेकर मल्टी-ग्रेन ब्रेड तक, भारतीय अपने भोजन के हिस्से के रूप में ब्रेड को बढ़ाते ही जा रहे हैं। गैर सरकारी संगठन सेण्टर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) की रिपोर्ट के अनुसार पूर्व से पैक की गई ब्रेड के सामान्य रूप से उपलब्ध 38         और पढ़ें …

गोइटर – घेंघा: लक्षण और कारण

गोइटर – घेंघा – लक्षण – निगलने में या साँस लेने में कठिनाई। खाँसी होना, आवाज में भारीपन, गले में भरा भरा लगना। चक्कर आना. गोइटर – घेंघा – कारण – आयोडीन की कमी। स्व-प्रतिरक्षक रोग। गर्भावस्था और रजोनिवृत्ति। अनुवांशिकता.

गोइटर – घेंघा: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

गोइटर – घेंघा – आहार – लेने योग्य आहार: जिस व्यक्ति को गोइटर पीड़ा दे रहा है उसे निम्नलिखित वस्तुएँ अधिक मात्रा में लेनी चाहिए: पुराने चावल, जौ, लहसुन, मूंग दाल, पटोला, सहजन, ककड़ी, और गन्ने का रस, दूध और दुग्ध उत्पाद।
, जई, समुद्री आहार, गाजर, टमाटर, लेट्यूस, लहसुन, साबुत चावल, प्याज, अमरुद, अंडे (जर्दी) खट्टे फल क्योंकि ये सभी आयरन से समृद्ध होते हैं।
, अन्ननास या अन्नानास का रस।
,

गोइटर – घेंघा: रोकथाम और जटिलताएं

गोइटर – घेंघा – रोकथाम – आयोडीन युक्त नमक का प्रयोग करें.

गोइटर – घेंघा: प्रमुख जानकारी और निदान

गोइटर (घेंघा) थाइरोइड ग्रंथि का असामान्य रूप से बढ़ जाना है जिससे गले में एक गठान उत्पन्न हो जाती है।.

हाइपरथाइरोइडिसम: रोकथाम और जटिलताएं

हाइपरथाइरोइडिसम रोकथाम – धूम्रपान बंद करें, तनाव कम करें, नित्य व्यायाम करें और चुस्त रहें, छाना हुआ पानी पियें.

हाइपरथाइरोइडिसम: लक्षण और कारण

हाइपरथाइरोइडिसम लक्षण – वजन में गिरावट, बार बार पसीना आना, थाइरोइड ग्रंथि का आकार बड़ा होना, बाल झड़ना, नींद में बाधा. हाइपरथाइरोइडिसम कारण – अत्यधिक आयोडीन, तनाव, अन्य संक्रमण.

हाइपरथाइरोइडिसम: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

हाइपरथाइरोइडिसम आहार – लेने योग्य आहार: गोइटरोजेनिक आहारों में क्रूसीफेरस (एक समूह का नाम) सब्जियाँ जैसे कि पत्तागोभी, फूलगोभी, और ब्रसेल्स स्प्राउट; गहरी हरी पत्तेदार सब्जियाँ, और जड़ वाली सब्जियाँ जैसे कि शलजम, और रूटाबेगा (शलजम का एक प्रकार) हमारे शरीर के आयोडीन उपयोग में अवरोध करते हैं और इस कारण हाइपरथाइरोइडिसम के प्रभाव को कम करते हैं। हाइपरथाइरोइडिसम में जिंक का स्तर घट जाता है इसलिए जिंक युक्त आहार जैसे कि भूरा चावल, साबुत अनाज का दलिया, ज्वार, बाजरा, गिरी और मेवे लेने चाहिए। कैल्शियम युक्त आहार लें जिनमें डेरी उत्पाद जैसे कि दूध, दही और पनीर आते हैं।

हाइपरथाइरोइडिसम: प्रमुख जानकारी और निदान

हाइपरथाइरोइडिसम में, थाइरोइड ग्रंथि अधिक सक्रिय हो जाती है और शरीर की आवश्यकता से अधिक थाइरोइड हार्मोन बनाती है.

हाइपोथाइरोइडिसम: रोकथाम और जटिलताएं

हाइपोथाइरोइडिसम रोकथाम – धूम्रपान त्यागें, तनाव कम करें, प्रतिदीन व्यायाम करें और चुस्त रहें, छाना हुआ पानी पियें.