मोटापे के विरुद्ध मेरा संघर्ष – II नियमित व्यायाम

नियमित व्यायाम नियमित व्यायाम करने के ढेरों लाभ हैं, इसमें कोई शक नहीं ये आप जानते हैं। अगर आप एकदम व्यायाम नहीं करते तो आपको काउच पोटैटो होने का खतरा होसकता है। लेकिन जब आप लाभों को तो समझते हों पर अन्य बातें बीच में आ जाएँ, तो आप अपने आप को कैसे संभालेंगे! अपने क्षेत्र में बने रहना मेरा शरीर कुछ         और पढ़ें …

टखने में मोच: रोकथाम और जटिलताएं

टखने में मोच – रोकथाम – व्यायाम और मेहनती कार्य करने के पहले शरीर को वार्म-अप करके तैयार करें। सही ऊँचाई और तरीके के जूते पहनें, ऊँची एड़ी के जूते न पहनें।.

टखने में मोच: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

टखने में मोच – आहार – लेने योग्य आहार: प्रोटीन से समृद्ध आहार जैसे पोल्ट्री उत्पाद, फलियाँ, डेरी उत्पाद, सोया और मीट, ये सुनिश्चित करते हैं कि शरीर को उचित मात्रा में प्रोटीन मिले ताकि चोटग्रस्त टखना ठीक हो सके।
, चोट सुधार की प्रक्रिया में शरीर की सहायता हेतु मछली बढ़िया आहार है।
, टखने की चोट को ठीक करने के लिए डेरी उत्पाद बहुत अच्छे होते हैं।
,

टखने में मोच: प्रमुख जानकारी और निदान

स्प्रेन (मोच) टखनों को सहारा देने वाले स्नायुओं (लिगामेंट्स) में खिंचाव से आने वाली चोट है। टखने के बाहरी तरफ के स्नायु टखने के मुड़ने के कारण सबसे आसानी से चोटग्रस्त होते हैं।.

टखने में मोच: लक्षण और कारण

टखने में मोच – लक्षण – दर्द, सूजना और फूलना, शरीर के प्रभावित हिस्से में गति की हानि. टखने में मोच – कारण – खेल और शारीरिक चुस्ती की गतिविधियाँ। किसी असमतल धरातल पर पैर रखना, या कोणयुक्त जगह से नीचे उतरना।.

ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम: प्रमुख जानकारी और निदान

ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम अतिरिक्त हड्डी के कारण टखने के पिछले हिस्से में उत्पन्न दर्द को बताता है।.

ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम: लक्षण और कारण

ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम – लक्षण – टखने के पिछले हिस्से में गहरा दर्द, आमतौर पर जब अंगूठे पर दबाव पड़े तब होता है (जैसे कि चलने के समय) या जब उँगलियों को नीचे की तरफ मोड़ा जाता है।. ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम – कारण – आमतौर पर ओएस ट्राईगोनम किसी चोट, जैसे टखने की मोच, से उत्प्रेरित होता है।.

ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम – आहार – लेने योग्य आहार विटामिन ई से समृद्ध आहार लें। यह विटामिन सूजन से मुकाबले में सहायता करता है। इसके बढ़िया आहार हैं पालक, बादाम का तेल, रतालू, सूरजमुखी के बीज और गेहूँ आदि इनसे परहेज करें शराब, तम्बाकू, कॉफ़ी, काली चाय, और प्रोसेस्ड आहार की मात्रा घटाएँ।

ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम: रोकथाम और जटिलताएं

ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम – रोकथाम – टखने की ब्रेस के प्रयोग से टखने के अत्यधिक प्लान्टर फ्लेक्शन को रोकने में सहायता होती है (पैरों को नीचे रखता है, जैसे कार के पेडल को दबाना हो) यह नर्म ऊतकों के टकराव को रोककर ओएस ट्राईगोनम सिंड्रोम को बढ़ने से रोकता है।.