तनाव: रोकथाम और जटिलताएं

रोकथाम (बचाव)

  • जो स्थितियाँ आपको क्रोधी अथवा दुखी करती हैं, उनमें ना पड़ें।
  • तनाव से उबरने के लिए अत्यधिक मात्रा में कैफीन, शराब या अवैध ड्रग का सेवन ना करें, क्योंकि लम्बे समय में ये वस्तुएँ आपको अधिक बदतर अनुभव कराएंगी।
  • नियमित व्यायाम शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखता है।
  • तनाव से जुड़े माँसपेशियों के खिंचाव को कम करने में विश्रान्तिकरण सबसे प्रभावी तरीका है। विश्रान्तिकरण की कई तकनीकें हैं जैसे योग, ध्यान, मालिश आदि।
  • कुछ लोगों को एक्यूपंक्चर, होमियोपैथी, वनस्पतीय औषधियों और अरोमाथेरेपी से तनाव को रोकने, और दूर करने, दोनों में लाभ मिला है।
  • भली-भांति संतुलित, स्वास्थ्यवर्धक आहार लें। अत्यधिक ना खाएँ।
  • नींद की पर्याप्त मात्रा लें।
  • मनबहलाव हेतु निकोटीन, कोकीन या अन्य ड्रग्स ना लें।
  • काम से विराम लें। अपनी जिम्मेदारियों के साथ आनंददायी गतिविधियों के संतुलन को निश्चित करें।
  • उन लोगों के साथ समय बिताएं जो आपको आनंद देने वाली गतिविधियाँ करते हैं।
  • सकरात्मक सोचें।
perimenopause prevention

डॉक्टर को कब दिखाएँ

डॉक्टर से संपर्क करें यदि आपको निम्न का अनुभव हो:
  • अत्यधिक चिंता
  • शराब और ड्रग का दुरुपयोग
  • अनुचित भय होना
  • सोने और भोजन की आदतों का बहुत बदल जाना।
  • आत्महत्या के विचार होना या दूसरों को हानि पहुँचाने की इच्छा होना।
  • स्वयं को क्षति पहुँचाने वाले, नष्ट करने वाले या हानिकारक व्यवहार में प्रवृत्त होना।




उत्प्रेरक, उत्प्रेरण, चिंता, अवसाद, तनाव, नकारात्मक एहसास, नकारात्मक विचार, अकेलापन, निराशा, उच्च, गंभीर, भाव, मिजाज बदलना, असामान्य व्यवहार, मानसिक, कम एकाग्रता, कमजोर स्मृति, तनाव सम्बन्धी विकार, संगीत, ध्यान, तनाव से निवारण, tanav rog, tanav ki roktham aur jatiltain, tanav se bachav aur nivaran, tanav doctor ko kab dikhayein, Stress in hindi, Stress treatment in hindi,

Comments are closed.