हीमेटोमा (खून जमा होना): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

हीमेटोमा (खून जमा होना) – आहार – विटामिन के शरीर को रक्त जमने वाले घावों से बचाता है। आहार में विटामिन के से समृद्ध आहार जैसे पालक, स्ट्रॉबेरी, पत्तागोभी, फूलगोभी, ब्रोकोली, गेहूँ की बाली, अंडे शामिल करें
, बायोफ्लेवोनोइड्स से समृद्ध आहारों में संतरे, नीबू, ग्रेपफ्रूट, स्ट्रॉबेरी, पपीता, खुबानी आदि हैं।
, विटामिन सी की कमी से रक्त इकठ्ठा होने वाले घाव बढ़ सकते हैं, इसलिए आहार में ऐसे फल और सब्जियों का योग इस प्रकार के घावों को बड़ी मात्रा में घटा सकता है। विटामिन सी से समृद्ध आहारों में शिमला मिर्च, अमरुद, गहरे हरे रंग की पत्तेदार सब्जियाँ, ब्रोकोली, बेरियाँ, खट्टे फल, टमाटर, मटर आदि आते हैं।
,

हीमेटोमा (खून जमा होना): रोकथाम और जटिलताएं

हीमेटोमा (खून जमा होना) – रोकथाम – चोटों से बचें।.

हीमेटोमा (खून जमा होना): प्रमुख जानकारी और निदान

हीमेटोमा रक्तवाहिनी के बाहर रक्त के इकट्ठे होने को कहते हैं। हीमेटोमा का नाम उनके होने के स्थान के आधार पर होता है।.

हीमेटोमा (खून जमा होना): लक्षण और कारण

हीमेटोमा (खून जमा होना) – लक्षण – उत्तेजना, दर्द, सूजन, लालिमा और विकृत आकार के घाव सामान्य रूप से हीमेटोमा के आम लक्षण हैं।. हीमेटोमा (खून जमा होना) – कारण – आमतौर पर हीमेटोमा आघात के कारण उत्पन्न होते हैं।.