पेनिक्युलाइटिस: रोकथाम और जटिलताएं

पेनिक्युलाइटिस रोकथाम – इस स्थिति को रोकने का कोई मार्ग नहीं है।.

पेनिक्युलाइटिस: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

पेनिक्युलाइटिस आहार – लेने योग्य आहार सब्जियों, फलों और साबुत अनाजों की अधिक मात्रा से युक्त स्वास्थ्यवर्धक आहार लें। इनसे परहेज करें ट्रांस फैटी एसिड और संतृप्त वसायुक्त आहार।

पेनिक्युलाइटिस: लक्षण और कारण

पेनिक्युलाइटिस लक्षण – संक्रमण, शारीरिक कारक, तीव्र गति से विकसित होने वाले विकार।. पेनिक्युलाइटिस कारण – संक्रमण, शारीरिक कारक, तीव्र गति से विकसित होने वाले विकार।.

पेनिक्युलाइटिस: प्रमुख जानकारी और निदान

पेनिक्युलाइटिस अर्थात पेनिक्युला की सूजन, जो कि रेशेदार-वसा के ऊतकों की परत होती है और त्वचा की बाहरी या उपरी परत के नीचे स्थित होती है।.

फरंक्युलोसिस (फोड़े): रोकथाम और जटिलताएं

फरंक्युलोसिस (फोड़े) – रोकथाम – हर प्रकार के घावों को स्वच्छ और ढँका हुआ रखें। व्यक्तिगत उपयोग की वस्तुएँ बाँटकर उपयोग ना करें।.

फरंक्युलोसिस (फोड़े): प्रमुख जानकारी और निदान

फरंक्युलोसिस बहुत सारे फोड़ों के होने या उनके विकसित होने की प्रवृत्ति रखने वाली स्थिति है।.

फरंक्युलोसिस (फोड़े): लक्षण और कारण

फरंक्युलोसिस (फोड़े) – लक्षण – आमतौर पर फोड़े की शुरुआत त्वचा के भीतर छोटे, सख्त, लाल उभारों से होती है, जो छूने पर नरम और पीड़ायुक्त होता है।. फरंक्युलोसिस (फोड़े) – कारण – स्टेफायलोकोकस औरियस बैक्टीरिया.

फरंक्युलोसिस (फोड़े): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

फरंक्युलोसिस (फोड़े) – आहार – लेने योग्य आहार फोड़ों के लिए अपना प्रतिरोध बढ़ाने के लिए प्रत्येक आहार में ताजे फल और सब्जियों को शामिल करें।: जिंक और विटामिन ई त्वचा के ठीक होने में सहायता करते हैं। विटामिन ई कई मेवों जैसे बादाम और अखरोट में पाया जाता है। ये ब्रसेल्स स्प्राउट्स, ब्रोकोली, सोयाबीन, अंडे और गेहूँ की बाली में भी पाए जाते हैं। जिंक लीन मीट, सीप, कद्दू के बीज और अंडे जैसे स्रोतों से सरलता से प्राप्त किया जाता है। मदिरा निर्माण का खमीर, सूअर की जांघ और गेहूँ की बाली भी जिंक के बढ़िया स्रोत हैं।
, विटामिन ए शरीर और प्रतिरक्षण के लिए हमेशा ही बढ़िया होता है इसलिए गाजर का अधिक मात्रा में सेवन करके और गाजर का ताजा रस अधिक मात्रा में पीकर, अपने विटामिन ए की मात्रा को बढ़ाएं।
, विटामिन सी कोलेजन के उत्पादन में सहायता करता है। कोलेजन घावों के भरने में और निशान पड़ने से रोकने में मदद करता है। विटामिन सी की भरपूर मात्रा से युक्त खट्टे फल जैसे संतरे, अन्नानास, कीवी, आम, आड़ू, और ग्रेपफ्रूट खाएँ।
,