हाइपरथाइरोइडिसम: रोकथाम और जटिलताएं

हाइपरथाइरोइडिसम रोकथाम – धूम्रपान बंद करें, तनाव कम करें, नित्य व्यायाम करें और चुस्त रहें, छाना हुआ पानी पियें.

हाइपरथाइरोइडिसम: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

हाइपरथाइरोइडिसम आहार – लेने योग्य आहार: गोइटरोजेनिक आहारों में क्रूसीफेरस (एक समूह का नाम) सब्जियाँ जैसे कि पत्तागोभी, फूलगोभी, और ब्रसेल्स स्प्राउट; गहरी हरी पत्तेदार सब्जियाँ, और जड़ वाली सब्जियाँ जैसे कि शलजम, और रूटाबेगा (शलजम का एक प्रकार) हमारे शरीर के आयोडीन उपयोग में अवरोध करते हैं और इस कारण हाइपरथाइरोइडिसम के प्रभाव को कम करते हैं। हाइपरथाइरोइडिसम में जिंक का स्तर घट जाता है इसलिए जिंक युक्त आहार जैसे कि भूरा चावल, साबुत अनाज का दलिया, ज्वार, बाजरा, गिरी और मेवे लेने चाहिए। कैल्शियम युक्त आहार लें जिनमें डेरी उत्पाद जैसे कि दूध, दही और पनीर आते हैं।

हाइपरथाइरोइडिसम: लक्षण और कारण

हाइपरथाइरोइडिसम लक्षण – वजन में गिरावट, बार बार पसीना आना, थाइरोइड ग्रंथि का आकार बड़ा होना, बाल झड़ना, नींद में बाधा. हाइपरथाइरोइडिसम कारण – अत्यधिक आयोडीन, तनाव, अन्य संक्रमण.

हाइपरथाइरोइडिसम: प्रमुख जानकारी और निदान

हाइपरथाइरोइडिसम में, थाइरोइड ग्रंथि अधिक सक्रिय हो जाती है और शरीर की आवश्यकता से अधिक थाइरोइड हार्मोन बनाती है.

गेलेक्टोरिया: प्रमुख जानकारी और निदान

गेलेक्टोरिया स्तनों के चुचुकों से दूध जैसे पदार्थ का निकलना है जो गर्भावस्था पश्चात के स्तनपान से जुड़ा हुआ नहीं होता।.

गेलेक्टोरिया: लक्षण और कारण

गेलेक्टोरिया लक्षण – प्राथमिक लक्षण है चुचुक से दूध जैसे तरल का निकलना जो कि स्तनपान से जुड़ा हुआ नहीं होता। यह तरल एक या दोनों स्तनों से बाहर आ सकता है।. गेलेक्टोरिया कारण – पीयूष ग्रंथि की गांठें, औषधियाँ, गर्भावस्था, हार्मोन सम्बन्धी परिवर्तन.

गेलेक्टोरिया: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

गेलेक्टोरिया स्तनों के चुचुकों से दूध जैसे पदार्थ का निकलना है जो गर्भावस्था पश्चात के स्तनपान से जुड़ा हुआ नहीं होता। दूध जैसा सफ़ेद पदार्थ एक या दोनों स्तनों से बह सकता है और स्तनों को उत्प्रेरित करने पर या किये बिना भी तरल निकल सकता है। यह स्थिति मुख्यतः महिलाओं में होती है। पुरुषों में यह अत्यंत कम होती है।

अक्सर इसे गर्भावस्था से असंबंधित गेलेक्टोरिया कहा जाता है। यह तब होता है जब शरीर अत्यधिक मात्रा में प्रोलेक्टिन (मस्तिष्क में स्थित पीयूष ग्रंथि द्वारा उत्पन्न हार्मोन जो किसी महिला द्वारा शिशु को जन्म देने के बाद दूध के उत्पादन को उत्प्रेरित करता है) उत्पन्न करता है।

गेलेक्टोरिया: रोकथाम और जटिलताएं

गेलेक्टोरिया रोकथाम – तंग कसे हुए कपड़े ना पहनें। अवैध ड्रग का प्रयोग ना करें।.

हाइपोथाइरोइडिसम: प्रमुख जानकारी और निदान

हाइपोथाइरोइडिसम में थाइरोइड ग्रंथि उचित रूप से सक्रिय नहीं होती और आवश्यक मात्रा में थाइरोइड हार्मोन उत्पन्न नहीं करती।.

हाइपोथाइरोइडिसम: लक्षण और कारण

हाइपोथाइरोइडिसम लक्षण – वजन में बढ़ोतरी, थकावट, भूलने की समस्या, सीखने में कठिनाई, उनींदापन. हाइपोथाइरोइडिसम कारण – आयोडीन की कमी, तनाव, अन्य संक्रमण.