निमोनिया: प्रमुख जानकारी और निदान

निमोनिया क्या है?

निमोनिया फेफड़ों का संक्रमण है जिसमें फेफड़ों में हवा रहने के लिए बनी छोटी थैलीनुमा संरचनाओं में सूजन के साथ तरल पदार्थ या पीप इकठ्ठा हो जाता है, जिससे बलगम युक्त खाँसी, बुखार, ठिठुरन और साँस लेने में कठिनाई होने लगती है।
Pneumonia overview image

रोग अवधि

वैसे यह गंभीर रोग नहीं है, निमोनिया ग्रस्त व्यक्ति घरेलू देखभाल जैसे कि आराम और खाँसी का ध्यान रखकर 2 से 3 दिनों में ठीक हो सकता है।

स्वस्थ व्यक्तियों में, निमोनिया साधारण बीमारी की तरह होता है और 2 से 3 सप्ताहों में चला जाता है। वृद्ध व्यक्तियों और अन्य रोगों से ग्रस्त लोगों में, रोग ठीक होने में 6 से 8 सप्ताह या अधिक लग सकते हैं।

जाँच और परीक्षण

रोग का निर्धारण रोगी के चिकित्सीय इतिहास और लक्षणों का शारीरिक परीक्षण, जिसमें स्टेथोस्कोप की सहायता से आपकी साँस को सुना जाता है, के द्वारा किया जाता है।
  • छाती का एक्स-रे और सीटी- स्केन।
  • रक्त परीक्षण।
  • बलगम की जाँच।
  • ब्रोंकोस्कोपी और थोरासेंटेसिस
(फेफड़ों का द्रव निकालना) बहुत कम रोगियों में किया जाता है जब लक्षण बहुत गंभीर हों या अन्य जाँचों से कोई परिणाम ना मिल पा रहा हो।

डॉक्टर द्वारा आम सवालों के जवाब

Q1.निमोनिया क्या है?
निमोनिया फेफड़ों के अल्वीओली का वायरस, बैक्टीरिया या अपवादस्वरूप फफूंद द्वारा होने वाला संक्रमण है, इसमें बुखार, गीली खांसी, और शरीर में दर्द होता है।

Q2.मुझे निमोनिया कैसे हो सकता है?
निमोनिया बिना चिकित्सा किये या अपर्याप्त चिकित्सा किये यूआरटीआई/एलआरटीआई (उपरी और निचले श्वसन तंत्र के संक्रमण) का परिणाम है।

Q3.निमोनिया का इलाज क्या है? कारण के आधार पर उचित जीवाणुरोधी दवाओं द्वारा निमोनिया का इलाज किया जाता है। अन्य सहायक दवाओं में बलगम निकलने में सहायक खांसी का सिरप, ब्रोंकोडाईलेटर्स (ब्रोंकाई की सिकुड़न कम करने वाली औषधि), नेबुलाईज़ेशन और भाप देना शामिल हैं।

Q4.निमोनिया ठीक होने में कितना समय लगता है?
निमोनिया उचित चिकित्सा के साथ एक सप्ताह के भीतर ठीक हो जाता है। कभी-कभी फेफड़ों का अवरोध ठीक होने में 2-3 सप्ताह लग सकते हैं।

Q5.मैं निमोनिया से कैसे बच सकता हूँ? आप उचित मास्क पहनकर निमोनिया से बच सकते हैं। छाती साफ़ रखने के लिए ठंडक की स्थिति में नियमित भाप लें। न्यूमोकोकाई बैक्टीरिया से होने वाले निमोनिया से बचाव के लिए 5 वर्ष से छोटे बच्चों और 65 वर्ष से अधिक आयु के वृद्धों में न्यूमोकोकल कोन्जूगेट वैक्सीन लगाई जा सकती है।

Q6.निमोनिया की समस्याएँ क्या हैं?
यदि निमोनिया का उचित और पर्याप्त इलाज ना हो तो यह तीव्र श्वास कष्ट में बदल सकता है और इससे मृत्यु भी हो सकती है।.






फेफड़ों का कार्य, निमोनिया, हरा बलगम, अल्विओली, एलआरटीआई, निमोनिया डॉक्टर सलाह, Pneumonia rog, Pneumonia kya hai?, Pneumonia in hindi,

Comments are closed.