बच्चों में जीईआरडी (GERD): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

बच्चों में जीईआरडी (GERD) – आहार – लेने योग्य आहार: ब्रेड और अनाज। फल और सब्जियाँ (सेब, केले, अंगूर, खरबूज, तरबूज, नाशपाती, आलूबुखारा, हरी पत्तेदार सब्जियाँ, ककड़ी, हरी फलियाँ, फूलगोभी, आलू)। दो वर्ष से कम आयु के सभी बच्चों को सम्पूर्ण दूध पीना चाहिए और पूर्ण वसायुक्त डेरी उत्पाद खाना चाहिए। यदि आपका बच्चा पूर्ण वसायुक्त डेरी उत्पादों को हजम नहीं कर पाता है तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

बच्चों में जीईआरडी (GERD): प्रमुख जानकारी और निदान

गेस्ट्रो-इसोफेजिअल रिफ्लक्स डिजीज (जीईआरडी) एक आम स्थिति है जिसमें पेट का अम्ल, पेट के बाहर और आहारनलिका में रिस जाता है।.

बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटके: रोकथाम और जटिलताएं

बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटके – रोकथाम – बच्चे को हलके कपड़े पहनाकर रखें, या यदि कमरा गर्म है तो उसके सारे कपड़े निकाल दें। ठन्डे पेय अधिक मात्रा में पिलाएँ।.

बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटके: प्रमुख जानकारी और निदान

फेब्राइल सीज़र्स वह झटके हैं जो बुखार के दौरान आते हैं।.

बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटके: लक्षण और कारण

बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटके – लक्षण – झटके, बुखार (हलके से लेकर तेज तक), उलटी होना और मुँह से झाग निकलना। आँखें घूमना। बेहोशी।. बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटके – कारण – कोई भी रोग जो बुखार (उच्च तापमान) उत्पन्न कर सकता है, बुखार के झटके भी उत्पन्न कर सकता है।.

बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटके: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटके – आहार – लेने योग्य आहार इनसे परहेज करें: अंडे, दूध और इसके उत्पाद। फल,

बच्चों में डायपर द्वारा उत्पन्न निशान: रोकथाम और जटिलताएं

बच्चों में डायपर द्वारा उत्पन्न निशान – रोकथाम – त्वचा को पूरी तरह सूखने दें। त्वचा को नर्म कपड़े द्वारा हौले से थपथपाएं। डायपर बदलने के पहले अपने हाथ धोएँ और अपने बच्चे को स्वच्छ रखें।.

बच्चों में डायपर द्वारा उत्पन्न निशान: प्रमुख जानकारी और निदान

डायपर रेश त्वचा की सूजन है जो आपके बच्चे के निचले हिस्से में चमकदार लाल त्वचा द्वारा लगे हुए जोड़ जैसी प्रतीत होती है।.

बच्चों में डायपर द्वारा उत्पन्न निशान: लक्षण और कारण

बच्चों में डायपर द्वारा उत्पन्न निशान – लक्षण – डायपर पहनने के क्षेत्र (कूल्हे, जांघ, जननांगों) में लाल, फूली और नर्म तथा पीड़ायुक्त दिखाई पड़ने वाली त्वचा।. बच्चों में डायपर द्वारा उत्पन्न निशान – कारण – मल और मूत्र से उत्पन्न उत्तेजना। नया भोज्य पदार्थ खिलाना। नए उत्पाद से उत्पन्न उत्तेजना। बैक्टीरिया या यीस्ट (फफूंद) द्वारा उत्पन्न संक्रमण।.

बच्चों में डायपर द्वारा उत्पन्न निशान: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

बच्चों में डायपर द्वारा उत्पन्न निशान – आहार – लेने योग्य आहार: स्तनपान को ही पोषण का एकमात्र स्रोत होना चाहिए। पिलाने हेतु तैयार तरल के रूप में मिलने वाले, बच्चों के लिए बने फोर्मुले भी, सहायक हो सकते हैं। बायोटिन और जिंक से समृद्ध आहार।