बच्चों के गले में संक्रमण: रोकथाम और जटिलताएं

बच्चों के गले में संक्रमण – रोकथाम – अल्कोहल आधारित हाथ स्वच्छ करने वाले पदार्थों से हाथ स्वच्छ करना, हाथों को आसानी से जीवाणुमुक्त करने में सहायता करता है। खांसते या छींकते समय मुँह को ढँकने के लिए टिश्यू का प्रयोग किया जाना चाहिए।.

बच्चों के गले में संक्रमण: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

बच्चों के गले में संक्रमण – आहार – लेने योग्य आहार: केले, चिकन सूप, नीबू शहद मिला हुआ रस,, आमलेट या अंडे का सफ़ेद हिस्सा। अदरक या शहद की चाय।

बच्चों के गले में संक्रमण: लक्षण और कारण

बच्चों के गले में संक्रमण – लक्षण – बुखार, कंपकंपी, निशान, सिरदर्द। गले के क्षेत्र के आसपास लाल और सफ़ेद धब्बे। निगलने में कठिनाई।. बच्चों के गले में संक्रमण – कारण – वायरस और बैक्टीरिया द्वारा उत्पन्न संक्रमण।.

बच्चों के गले में संक्रमण: प्रमुख जानकारी और निदान

स्ट्रेप थ्रोट गले के पिछले हिस्से, टॉन्सिल्स और कभी-कभी एडेनोइड में होने वाली सूजन को कहते हैं।.

बच्चों की सामान्य सर्दी: रोकथाम और जटिलताएं

बच्चों की सामान्य सर्दी – रोकथाम – छींकते और खाँसते समय नाक और मुँह को ढंकें। वस्तुओं का उपयोग बाँटकर ना करें। संक्रमित व्यक्ति के साथ। स्वच्छ रहें और अपने आस-पास स्वच्छता बनाए रखें।.

बच्चों की सामान्य सर्दी: लक्षण और कारण

बच्चों की सामान्य सर्दी – लक्षण – बहती या भरी हुई नाक। खुजलीयुक्त या पीड़ायुक्त गला। खाँसी, नाक बंद होना।. बच्चों की सामान्य सर्दी – कारण – सामान्यतया सर्दी एक वायरस जिसे राइनोवायरस कहते हैं, के द्वारा होती है।.

बच्चों की सामान्य सर्दी: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

बच्चों की सामान्य सर्दी – आहार – लेने योग्य आहार इनसे परहेज करें: विटामिन सी की उच्च मात्रा से युक्त फल और सब्जियाँ, जैसे बेरियाँ, संतरे, नीबू, शिमला मिर्च, पपीता, फूलगोभी, ब्रोकोली आदि। तरल पदार्थ अधिक मात्रा में लें। अंडे, जंक फ़ूड, रेड मीट, मिठाइयाँ, पनीर और ठंडी वस्तुएँ जैसे आइसक्रीम। मैदे से बने हुए आहार या स्टार्च की उच्च मात्रा युक्त आहार भी नहीं लेना चाहिए।

बच्चों की सामान्य सर्दी: प्रमुख जानकारी और निदान

साधारण सर्दी ऊपरी श्वसन तंत्र (नाक और गले) का संक्रामक वायरस द्वारा उत्पन्न संक्रमण है।.

न्यूरेल्जिया: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

न्यूरेल्जिया आहार – लेने योग्य आहार: विटामिन सी से समृद्ध फल और सब्जियाँ जैसे क्रेनबेरी, ब्रोकोली, स्ट्रॉबेरी, संतरे, ग्रेपफ्रूट, जामुन, करौंदे, टमाटर, केल और पालक लेने चाहिए क्योंकि विटामिन सी, जो कि जल में घुलनशील एंटीऑक्सीडेंट है और आपके प्रतिरक्षक तंत्र को शक्ति देता है, तंत्रिकाओं के दर्द को कम करता है। ओमेगा 3 वसीय अम्ल से समृद्ध आहार जैसे ठन्डे पानी की मछली, अलसी के बीज, अखरोट, सोयाबीन, केनोला तेल और कद्दू के बीज आदि लेने चाहिए क्योंकि ओमेगा 3 वसीय अम्ल शरीर में उपस्थित सूजन को कम करता है और तंत्रिकाओं की क्षति को रोकता है। पानी अधिक मात्रा में पियें और जल की अधिकता वाले आहार जैसे संतरे, शोरबा, लेट्युस, औषधीय चाय, आड़ू और अंगूर लेना चाहिए।

न्यूरेल्जिया: रोकथाम और जटिलताएं

न्यूरेल्जिया रोकथाम – सम्बंधित विकारों जैसे मधुमेह और गुर्दे की समस्या के उपचार करने पर कुछ प्रकार के न्यूरेल्जिया को रोका जा सकता है।.