गेस्ट्राइटिस (पेट में सूजन): घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

परहेज और आहार

लेने योग्य आहार
तीव्र और दीर्घ दोनों स्थितियों में रोगी को आहार का लंघन करना चाहिए।
  • लंघन के दौरान फलों का रस लिया जा सकता है।
  • फलों के रस में 5 घंटों का अन्तराल होना चाहिए।
  • 6 औंस पालक के रस के साथ 10 औंस गाजर का रस मिलाकर लेना चाहिए।
  • दही और पनीर
इनसे परहेज करें
  • निकोटीन
  • शराब
  • तीव्र और सुगंधित मसाले
  • माँसयुक्त आहार
  • मिर्च
  • अचार
  • चाय और कॉफ़ी
  • मिठाइयाँ केक, पेस्ट्रीज और हवा युक्त शीतल पेय।
  • टमाटर और उसके उत्पाद।
  • दूध
  • खट्टी चीजें (संतरे और अंगूर)

योग और व्यायाम

कड़े परिश्रम यक्त शारीरिक और मानसिक कार्य नहीं किये जाने चाहिए तथा श्वसन व्यायाम, तैराकी, पैदल चलना किया जा सकता है।

योग

घरेलू उपाय (उपचार)

  • सबसे पहले गेस्ट्राइटिस का कारण जानने का प्रयास करें। यदि यह बैक्टीरिया के कारण है तो एंटीबायोटिक्स लें, यदि यह किसी अन्य दवा के कारण है तो दवा को बदलें या बंद करें।
  • आहार और औषधियां बिना किसी लापरवाही के लें।
  • शांत रहें




गेस्ट्राइटिस, गेस्ट्राइटिस, पेट की समस्या, पेट में सूजन, पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द, पेट के ऊपरी हिस्से का दर्द, पेट फूलना, सीने में जलन, भूख, भूख में कमी, डकार, तीव्र गेस्ट्राइटिस, दीर्घ गेस्ट्राइटिस, गेस्ट्रोएंटेराइटिस, पेट में संक्रमण, पेटदर्द, गेस्ट्राइटिस (पेट में सूजन) – आयुर्वेदिक दवा और इलाज, pet me sujan rog, pet me sujan ka gharelu upchar, upay, pet me sujan me parhej, pet me sujan ka ilaj, pet me sujan ki dawa, pet me sujan treatment in hindi, Gastritis in hindi, Gastritis treatment in hindi,

Comments are closed.