टाइप 2 मधुमेह: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

परहेज और आहार

लेने योग्य आहार
  • करेला, मेथी, जामुन, लहसुन, प्याज़, अलसी, दालचीनी का पानी, फाइबर युक्त आहार जैसे कि सेब, मूंग दाल, जई, सोयाबीन इत्यादि मधुमेह को नियंत्रित करने में सहायता करते हैं।
  • स्वास्थ्यकारी प्रोटीन लें जैसे कि फलियाँ, मछली, या त्वचारहित चिकन।
  • स्वास्थ्यवर्धक वसा युक्त आहार जैसे कि जैतून का तेल, मेवे (बादाम, अखरोट, पेकंस), और एवोकेडो।
  • लाभकारी वसा जैसे कि ओमेगा 3 और एमयूएफ़ए भी लिए जाने चाहिए क्योंकि ये शरीर के लिए अच्छे होते हैं। इनके प्राकृतिक स्रोत केनोला तेल, अलसी का तेल, वसायुक्त मछली और मेवे हैं।
  • फाइबर की अधिकता वाले फल जैसे कि पपीता, सेब, संतरा, नाशपाती और अमरुद लेने चाहिए। आम, केले, और अंगूर में शक्कर अधिक होती है इसलिए इन्हें दूसरे फलों की अपेक्षा कम खाना चाहिए।
Diabetes food pyramid

इनसे परहेज करे
  • नमक, शक्कर, वसा, रेड मीट, सामान्य दूध, और इसके उत्पाद जैसे कि दही, चाय और कॉफ़ी, मैदा और इसके उत्पाद।
  • सफ़ेद चावल, आलू, गाजर, ब्रेड और केले से परहेज – ये रक्त शर्करा का स्तर बढ़ाते हैं। इनके स्थान पर होल ग्रेन्स, होल वीट या सोया ब्रेड और पोलिश रहित चावल लेना चाहिए।
 

योग और व्यायाम

व्यायाम
नियमित व्यायाम ना केवल आपको स्वस्थ रखता है बल्कि इन्सुलिन के प्रति संवेदनशीलता को भी बढ़ाता है।
  • सप्ताह में 5 या अधिक बार 30 मिनट तक पैदल चलें।
  • आप तैरना, बाइक चलाना, या अन्य मध्यम स्तर का जोर डालने वाले कार्य कर सकते हैं यहाँ तक कि घरेलू कार्य भी महत्व रखते हैं।
  • स्ट्रेचिंग वाले व्यायामों से लचीलापन बढ़ता है, तनाव कम होता है, और मांसपेशियों की जकड़न से बचाव होता है।
Regular exercise

योग
मधुमेह को नियंत्रित करने वाले कुछ आसन और प्राणायाम
प्राणायाम
  • कपालभाती— YouTube
  • अनुलोम विलोम
 

संगीत और ध्यान

सरल ध्यान श्वास सहित ध्यान( — YouTube ) सर्वोत्तम ध्यान है। यदि आप स्वयम को आसानी से भटकता पाते हैं तो पार्श्व में कोमल, मधुर और भावपूर्ण संगीत चलायें।

घरेलू उपाय (उपचार)

  • शारीरिक रूप से सक्रिय बनें।
  • उचित आहार योजना का पालन करें और वजन नियंत्रित रखें।
  • धूम्रपान और तम्बाकू के अन्य रूपों का त्याग करें।
  • वार्षिक शारीरिक परीक्षण और नियमित चेक अप की योजना बनाएं।
   
शर्करा, मधुमेह, इन्सुलिन, मेलीटस, टाइप 2 मधुमेह, मधुमेह टाइप 2, टी2डी, नॉन-इन्सुलिन डिपेंडेंट डायबिटीज, ग्लूकोस, बार-बार मूत्रत्याग, प्यास में वृद्धि, भूख में वृद्धि, वजन गिरना, उच्च रक्त शर्करा, ए1सी, ओजीटीटी, एफ़बीएस, पीपीबीएस, एचबीए1सी, एनआईडीडीएम, डीएम्, वयस्क मधुमेह, आरबीएस, टाइप 2 मधुमेह – आयुर्वेदिक दवा और इलाज, type 2 madhemeha rog, type 2 madhemeha ka gharelu upchar, upay, type 2 madhemeha me parhej, type 2 madhemeha ka ilaj, type 2 madhemeha ki dawa, type 2 madhemeha treatment in hindi,

Comments are closed.