फ्लेंक दर्द: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

फ्लेंक दर्द – आहार – लेने योग्य आहार इनसे परहेज करें: विटामिन ए की अधिक मात्रा वाले आहार खुबानी, केंटालूप, अल्फाल्फा, कद्दू, रतालू, स्क्वाश और गाजर।
, आपके गुर्दों की समस्याओं को ठीक करने में सहायक अन्य आहारों में तरबूज, अजमोदा, ककड़ी, लहसुन और पपीता आते हैं।
, तैलीय और मसालेदार आहार।
,

फ्लेंक दर्द: रोकथाम और जटिलताएं

फ्लेंक दर्द – रोकथाम – शराब त्यागें। तरल पदार्थ अधिक मात्रा में पियें।.

ट्रिगर फिंगर: रोकथाम और जटिलताएं

ट्रिगर फिंगर – रोकथाम – अंगूठे और उँगलियों का अत्यधिक प्रयोग न करें। यदि आपका कार्य या शौक ऐसा है जिसमें हाथ की गति का दोहराव होता है, तो जोड़ों पर दबाव को कम करने के लिए बीच-बीच में विराम लें।.

ट्रिगर फिंगर: प्रमुख जानकारी और निदान

ट्रिगर फिंगर दर्दनाक स्थिति है जिसमें मोड़ने पर उँगलियां या अंगूठा अटक जाता है या जाम हो जाता है।.

ट्रिगर फिंगर: लक्षण और कारण

ट्रिगर फिंगर – लक्षण – उँगलियों में जकड़न, खासकर सुबह के समय। मुड़ी हुई स्थिति में ऊँगली का जाम होना, जिसे सीधा करने में आप असमर्थ हों। अपनी ऊँगली को सीधा करते समय और मोड़ते समय दर्द होना। सूजन. ट्रिगर फिंगर – कारण – ट्रिगर फिंगर किसी उंगली या अंगूठे के बार-बार गति करने या जोर लगाकर उपयोग करने से होता है।.

ट्रिगर फिंगर: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

ट्रिगर फिंगर – आहार – लेने योग्य आहार इनसे परहेज करें: ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त आहार जैसे मछली, अखरोट, अलसी के बीज आदि जिनमें सूजनरोधी गुण होते हैं।
, अन्नानास के रस में ब्रोमेलैन नामक एंजाइम होता है। ब्रोमेलैन में उपस्थित रसायन शरीर को वह प्राकृतिक पदार्थ उत्पन्न करने के लिए उत्प्रेरित करते हैं जो दर्द को दूर करते हैं और सूजन को कम करते हैं।
, ट्रिगर फिंगर से जुड़ी सूजन को दूर करने में एलो वेरा प्राथमिक कार्य करता है। इसे प्रभावित क्षेत्र पर या तो लगाया जा सकता है या पूरक की तरह लिया जा सकता है।
,

जमा हुआ या जकड़ा हुआ कन्धा: लक्षण और कारण

जमा हुआ या जकड़ा हुआ कन्धा – लक्षण – कंधे के जोड़ में दर्द और लगातार बनी हुई जकड़न।. जमा हुआ या जकड़ा हुआ कन्धा – कारण – गर्दन में डिस्क सम्बन्धी रोग। दीर्घकालीन रोग जैसे कि मधुमेह या आर्थराइटिस। रजोनिवृत्ति की आयु वाली महिलाएँ। कंधे की चोट।.

जमा हुआ या जकड़ा हुआ कन्धा: घरेलु उपचार, इलाज़ और परहेज

जमा हुआ या जकड़ा हुआ कन्धा – आहार – लेने योग्य आहार इनसे परहेज करें: सूजनरोधी आहारों जैसे फल और सब्जियाँ, तैलीय मछली (जिसमें ओमेगा-3 वसीय अम्लों की उच्च मात्रा हो), मेवे, गिरियाँ, और कुछ मसाले, जैसे अदरक, लहसुन और हल्दी आदि का अधिक मात्रा में सेवन करें। सब्जियाँ जैसे फूलगोभी, ब्रोकोली, ब्रसेल स्प्राउट्स, पत्तागोभी, क्रैस, रतालू ये सभी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं जो शरीर को हानिकारक तत्वों से छुटकारा पाने में सहायता करते हैं। फल जैसे कि बेरियाँ, अन्नानास, लाल अंगूर आदि अपने सूजनरोधी गुणों के लिए जाने जाते हैं।

जमा हुआ या जकड़ा हुआ कन्धा: रोकथाम और जटिलताएं

जमा हुआ या जकड़ा हुआ कन्धा – रोकथाम – उपचार जल्द शुरू करने से जकड़न को रोकने में सहायता होती है और मधुमेह को नियंत्रित रखें क्योंकि यह खतरे के कारकों में से एक है।.

जमा हुआ या जकड़ा हुआ कन्धा: प्रमुख जानकारी और निदान

जमा या जकड़ा हुआ कन्धा (जिसे कभी-कभी कंधे के कैप्सूल बंध की सूजन कहा जाता है) ऐसी स्थिति है जो कंधे के जोड़ में जकड़न और दर्द के द्वारा प्रदर्शित होती है।.